PTE test ki taiyari kaise karen: ये है जबरदस्त टिप्स 

ये पढ़े: IELTS और PTE में अंतर? difference between IELTS and PTE in hindi

पढ़ने और सुनने के कौशल में विकास 

PTE टेस्ट में पढ़ने और सुनने के कौशल काफी महत्वपूर्ण हैं। PTE test ki taiyari kaise karen इसके लिए आपको अच्छे से समझना होगा कि टेस्ट किस प्रकार की पाठयक्रम से संबंधित है। और आपको किन विषयों पर ध्यान केंद्रित करना है। अधिक से अधिक प्रैक्टिस पाठों का पालन करें। और एग्जाम के दौरान सुने जा रहे ध्वनियों, संज्ञाओं (noun) और जानकारी को समझने की कोशिश करें।

व्याकरण कौशल को मजबूत करें

आप अच्छी व्याकरण से अपने वाक्यों को और भी सरल और अच्छा बना सकते हैं। और उनका प्रयोग आप सही समय और सही जगह पर कर सकते हैं। लेकिन अगर आपकी व्याकरण मजबूत नहीं है। तो इसके लिए आप एक अच्छी व्याकरण की किताब लेकर पढ़ सकते हैं। या फिर आप ऑनलाइन संसाधनों का भी उपयोग कर सकते हैं। आप मुश्किल वाक्यों को समझे और उन्हें अलग-अलग तरीके से बनाने की कोशिश करें। इससे एग्जाम में आपको काफी मदद मिलेगी। और आप परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन कर सकेंगे। 

लिखावट को सुधारें

PTE टेस्ट में आपको एक निबंध लिखने दिया जाएगा। इसलिए आपको अपने लिखने कौशल को सुधारने पर ध्यान देना होगा। निबंध लिखते समय, ध्यान दें कि आपका निबंध संगठित (essay organized) होना चाहिए। सही व्याकरण, शब्द सीमा और वाक्य संरचना पर खास ध्यान दें। अधिक से अधिक निबंध लिखें और समीक्षा (review) करें। ताकि आप अपनी लिखने की क्षमता में ज्यादा से ज्यादा सुधार कर सकें।

शब्दकोश को समझें 

अच्छी शब्दकोश के बिना, एक भाषा का प्रदर्शन संभव नहीं है। आपको नए-नए शब्द सीखें चाहिए। और उनका उपयोग अपने बोल-चाल के दौरान करना चाहिए। आप विभिन्न प्रकार के शब्दों, विलोम शब्दों (antonyms), समानार्थी शब्दों (synonyms) को समझने का प्रयास करें। इससे आपकी बहुत मदद होगी। और आप अपनी भाषा को बेहतर ढंग से संचालित कर पाएंगे।

टाइम मैनेजमेंट 

PTE टेस्ट में समय प्रबंधन (management) महत्वपूर्ण है। आपको प्रत्येक भाग के लिए निर्धारित समय अवधि दी जएगी। इसलिए आपको गतिशीलता (mobility) के साथ प्रश्नों का उत्तर देना होगा। इसके लिए आपको पहले से ही एक संगठित योजना बनाना चाहिए। और प्रैक्टिस टेस्ट में इसे अभ्यास करें ताकि आप परीक्षा के दौरान समय का उचित उपयोग कर सकें। इसके आपको परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। आप PTE टेस्ट के लिए ऑनलाइन प्रैक्टिस टेस्ट कर सकते हैं। इससे आपको परीक्षा पैटर्न, प्रश्नों के प्रकार और परीक्षा की समय सीमा का अनुमान होगा। 

अभ्यास के लिए समय निर्धारित करें

अभ्यास के लिए समय अवधि निर्धारित करना जरूरी है। और उसे नियमित रूप से अपनाएं। अपनी दैनिक गतिविधियों (daily activities) में समय निकालें। अभ्यास के दौरान अपनी प्रदर्शन को मापें। और उन क्षेत्रों पर ध्यान दें, जहां आपको और अधिक मेहनत की आवश्यकता है। आपको परीक्षा के दौरान आत्मविश्वास को बनाए रखना होगा। 

ये भी जानिए: Shiksha international: सरकार देती है ये फायदा अगर पढ़ना है विदेश में

1. PTE एग्जाम की तैयारी कैसे करें? 

PTE एग्जाम के लिए आपको अपनी बोलचाल की भाषा को सुधारना चाहिए। इंग्लिश का ज्यादा उपयोग करना चाहिए। नए वाक्य बनाकर उसका अभ्यास करें। सिमित समय के भीतर अपना एग्जाम पूरा करने की कोशिश करें। 

2. PTE परीक्षा का पैटर्न कैसा होता है?

इस एग्जाम की अवधि लगभग 3 घंटे की होती है। स्पीकिंग एंड राइटिंग सेक्शन होते हैं। जिसमें कई प्रकार के प्रश्नों का उत्तर देना होता है। रीडिंग सेक्शन के लिए लगभग 29-30 मिनट दिए जाते हैं। जिसमें 5 प्रश्न होते हैं। लिसनिंग सेक्शन में 8 प्रश्नों होते हैं।

3. PTE में कितने मॉड्यूल हैं?

इसमें बोलना और लिखना, पढ़ना और सुनना शामिल हैं। 

4. PTE एग्जाम में सबसे कठिन क्या है?

पीटीई परीक्षा का सबसे कठिन हिस्सा पढ़ना और उसके बाद लिखना है। इसलिए आप इसपर खास ध्यान दें। ताकि आपका एग्जाम सहर तरीके से हो जाए। 

Upasana Singh

Upasana Singh

Upasana Singh is a content specialist at tc-ww.com. She has experience in writing on different topics related to lifestyle, education, immigration and travel.

Articles: 299

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *